राजस्व एवम आपदा

राजस्व विभाग, हरियाणा भारत में हरियाणा सरकार का मंत्रालय और विभाग है। यह विभाग चार डिवीजनों, 22 जिलों, 57 उप-डिवीजनों, 77 तहसील और 43 उप-तहसील, 256 कानून्गो सर्किल, 2691 पटवार सर्किलों और 7083 राजस्व गांवों से संबंधित आय का आयोजन किया गया है।

अधिक जानकारी के लिए यहां जाएं:http://revenueharyana.gov.in/

आपदा प्रबंधन

जब अचानक घटनाओं के कारण समाज प्रभावित होता है, जिससे समुदाय व स्थानीय संसाधनो को नुकसान पहुंचता है, तो हम स्थिति को “आपदा” के रूप में कह सकते है। समुदाय की खतरनाक परिवेश, जो कि असुरक्षितता की स्थितियां है और तबाही से बचने या निपटने के लिए अपर्याप्त उपाय आपदा का कारण बनता है। महेन्द्रगढ़ जिले में सामरिक और प्रदुषण मुक्त स्थान है तथा समृद्ध वनस्पति और जीव भी महेन्द्रगढ़ को और सुन्दर बनाते है। लेकिन जिले में कुछ प्राकृतिक और अप्राकृतिक खतरों का भी सामना किया जाता है, जिनके बारे में प्रशासन सक्रिय रूप से जुडा हुआ है। जिला आपदा प्रबन्धन योजना (डीडीएमपी) एक ऐसा उपकरण है जो इस दिशा में कुशल उपाय करने की सुविधा प्रदान करता है। सरल शब्दों में, जिला आपदा प्रबन्ध योजना भविष्य में आने वाली आपदाओं से निपटने में सहायता करती है।